Sunday, August 8, 2010


हमारा मिलना शायद एक पल के लिए था मगर वो पल मेरी जिन्दगी का सब से हसीं पल था ........उस दिन के बाद आप हमेशा हमेशा के लिए मेरे हो गए और मै आप की ... मुझे लगा की मैंने उम्र भर के लिए प्यर को पा लिया .... क्या कहू समज नहीं आ रहा पर जैसे जैसे दिन गुज़र रहे है वैसे ही हर पल हर लम्हे मै आप को वो पिछले लम्हे से ज्यादा प्यार करने लगती हु..... आप को कैसे कहू की मुझे क्या एकसास होते है , जरा देखो तो मुझे -- क्या ये खवाबो की दुनिया तो नहीं.... ? मै आप को चाहती हु ये शायद कही छोटे पड़ जाते है प्यार के ढाई अक्षर के आगे .... जानती हु हम कभी एक नहीं होगे मगर आप को उही उम्र भर चाहुगी सदा... वो आप का कहना की सब ठीक हो जायगा ..या ये कहना की तुम से मै जिन्दा हु ... यही मेरी जिन्दगी की अमानाते है ... एक पल का प्यार.... एक पल की मुलाकात.... बस यही तो अमानाते है .......
पलक ........!!!!!!!

4 comments:

Anonymous said...

This is really very touching Pallu... Can't wait to hug you!

hugs.. Pearl...

raaaj said...

Again best of you..!!! ..Palak tumhari soch ka dayra kitna bada hai..!! aur potli mein kitne sundar moti hein shabdoin ke..!!:)

Excellent work...!!

संजय भास्कर said...

Excellent work...!!

Anonymous said...

yeh pyaare ehsaash...yeh lamhe....yeh kashish...jo samje wohi jaane...kabhi kabhi...apno ki yaadein apno se "suhani" lagti hai.....