Saturday, August 7, 2010




में ने कहा वो अजनबी है
दिल ने कहा ये दिल की लगी है
में ने कहा वोह सपना है
दिल ने कहा फिर भी वो तेरा अपना है
में ने कहा वोह दो पल की मुलाक़ात है
दिल ने कहा वोह सदियों का साथ है
में ने कहा वोह मेरी हार की कहानी है
दिल ने कहा येही तो प्यार है

4 comments:

संजय भास्कर said...

वाह !! एक अलग अंदाज़ कि रचना ......बहुत खूब

संगीता पुरी said...

बहुत बढिया !!

raaaj said...

Itna Bhi Gair Na Samjho Ki Baat Hi Na Kiya Karo, ... Tumhe paane ke liye jaan dene ko mann karta hai, Tumhari yaad mein dil baar baar aahe bhartaa hai, ...


........lovely lovely o meri Palak maan le dil ki baat ....kahi beet na jaye raat.....

sunil said...

unhone kaha ki mein "jutha" hoon....meine kaha....unhone muje "samja" nahi.....dil ne kaha.....tumhari baatein tum jano, meine unhe panah dee hai, unki yaadein meri khushi ka Raaz hai..."