Monday, July 16, 2018

ये और बात है कि.......वो निभा न सके,

पर जो किये थे वादे उसने, वो कमाल के थे...!!!

Monday, July 9, 2018

कुछ तस्वीरें चाहे कितनी भी ब्लैक & वाइट हो,
लेकिन ज़माने पर वो अपने गहरे रंग छोड़ जाती है...

उम्र चाहे कितनी भी छोटी रही हो,
लेकिन यादें उनकी दिलों में अमर हो जाती है...

अदाकारी हो या फ़िर जीने की अदा,
हर किरदार को वो अपनी खूबसूरती से महका जाती है...

कई सारे राज़ अपने साथ दफ़न करके,
वो ज़माने की बदसूरती को अपनी मौत में समेट जाती है...!

येशा

Sunday, July 8, 2018

मुझसे बिछड़ के ख़ुश रहते हो
मेरी तरह तुम भी झूठे हो

इक टहनी पे चाँद टिका था
मैं ये समझा तुम बैठे हो

उजले उजले फ़ूल खिले थे
बिल्कुल जैसे तुम हँसते हो

मुझको शाम बता देती है
तुम कैसे कपड़े पहनें हो

तुम तन्हा दुनिया से लड़ोगे
बच्चों सी बातें करते हो!

'बशीर बद्र'

लौट आयी हैं देखो...

बारिशें फिर से यहां वहा ...

इक तुमको ही...

लौट के आने की फुरसत नही....

Friday, June 29, 2018


एक सिरा ज़िंदगी का बंधा है तुझसे ,

जिस में बंध कर महसूस होता है .......!

कुछ रिश्ते बेनाम रह कर भी कितने करीब होते हैं...

दूर ही सही एक मुकम्मल इश्क की ताबीर होते हैं ......!!!

Monday, March 26, 2018

पल पल की वो ख्वाहिंशे ...
वो हर पल के जज़्बात ....,
लम्हों में सिमटती सारी ज़िंदगी ...
वो पल पल के तेरे अल्फाज़ ....,
स्वराजंलि में बहते वो नगमें ...
हर तमन्ना पूरी करते से लगते हैं ....,
संवेदना .. गहराइयों तक उतर जाती है ...
ज़िन्दगी की हकीकत से रूबरू करा जाती है .....

Friday, March 2, 2018

रंग लिया है मैंने सारे रंगों में,अपने आप को,

पता नहीं कौन से रंग में, तुम्हें पसंद आ जाऊ..