Saturday, June 5, 2010




देखो
रात बैठ के
आसमां के किनारे
लटका के पैर अपने
पायल बजा रही है

जी में आता है
आज
पकड़ के इसके पैर
खींच लूँ इसे ज़मीं पर
कैद कर के रख लूँ

कि फिर कभी रात के बहाने
तुम मुझसे दूर ना जाओ..!

4 comments:

संजय भास्कर said...

palak ji aap kaise itna sunder likh pati

संजय भास्कर said...

सुन्दर कवितायें बार-बार पढने पर मजबूर कर देती हैं.
आपकी कवितायें उन्ही सुन्दर कविताओं में हैं.

Anonymous said...

really nice one....one of my favourite note of yours...wo vedna kehte hain ya pida bichadne ka soch ke jo koi mehsus karta hai...shabdon mein pida jhalakti hai..of getting away...kp wrting...snkr..

Anonymous said...

one more thing..ur sense of linking pics to the notes which you write is amazing...i should say brilliant...every word gels so well with the pics...kp writing...snkr..